रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं उत्प्रेरक


रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं उत्प्रेरक

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं उत्प्रेरक:-

भौतिक परिवर्तन

भौतिक परिवर्तन :- पदार्थो में होने वाला ऐसा परिवर्तन जिसमे पदार्थो की भौतिक अवस्था में परिवर्तन होता है किन्तु पदार्थो के रासायनिक गुण व रासायनिक सगठन में कोई परिवर्तन नही आता, भौतिक परिवर्तन कहलाता  है|

जैसे :-

1. बर्फ का जल में बदलना |

२.कांच का टूटना  |

३. शक्कर का पानी में मिलना |



भौतिक परिवर्तन की विशेषताए :-

  1. इस परिवर्तन में पदार्थो की भौतिक अवस्था में परिवर्तन होता है  किन्तु रासायनिक गुण व सगठन   में कोई परिवर्तन नही होता है |
  2. यह परिवर्तन अस्थाई होता है |
  3. यह परिवर्तन उत्क्रमणीय होता है |

रासायनिक परिवर्तन

रासायनिक परिवर्तन :- पदार्थो में होने वाला ऐसा  परिवर्तन जिसके परिणामस्वरूप एक नया पदार्थ बनता है | यह नया पदार्थ मूल पदार्थ से रासायनिक गुण में भिन्न होता है |

जैसे :-  1. दूध से दही बनना |

२. कागज का जलना |

३. लोहे में जंग लगना  |

(स्पेशल नोट ):- मोमबती के जलने में भौतिक व रासायनिक दोनों परिवर्तन  होते है |

द्रव्यमान निकालना :-

1. Caco= cao+co

Ca=20X2=40

C=6X2  =   12

O= 8X2  =  16

Na+Cl     H

23+35.5       1.008

2. HNO3  =  1+14+48 = 63

3. NH3     =  14+3 = 17

4. H2SO4 = 2+32+64 = 98

5. NHOH  = 14+4+16+1 = 35

6. ALCL3  =  26+35.5  = 131

(i) अभिक्रिया (ii) अभिकारक    =   क्रियाफल (उत्पादक)

(iii) क्रियाकाक

समीकरण संतुलित करना :-

(i) 3Fe+4H2O = Fe3O4+4H2

(II)NaoH+HCL = Nacl+H20


रासायनिक अभिक्रियाओ के प्रकार :-

  1. सयोजक /योगात्मक /योगशील
  2. वियोजन
  3. विस्थापन
  4. दिविस्थापन
  5. ऊष्माक्षेपी
  6. ऊष्माशोषी
  7. ऑक्सीकरण/उपचयन
  8. अपचयन
  9. रेड़ोक्स/अपोपचयन
  10. अवक्षेपन




1. सयोजक /योगात्मक /योगशील अभिक्रिया :-

वह रासायनिक अभिकिया जिसमे दो या दो से अधिक अभिकारक मिलकर एकल उत्पाद का निर्माण करते है |

जैसे :-

  1.     2mg+o= 2mgo
  2.     2Na+Cl= 2Nocl
  3.     C+O2 = Co2

2.वियोजन/ अपघटन अभिक्रिया :-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे एकल अभिकर्मक टूटकर दो या दो से अधिक उत्पादों का निर्माण करते है वियोजन अभिक्रिया कहलाती है |

जैसे :-

  1. 2mgo = 2mg+o2
  2. 2nacl = 2Na+Cl2

वियोजन अभिक्रिया तीन प्रकार की होती है :-

1.तापीय / उष्मीय वियोजन :-

जैसे :- (i) 2Kclo3 —-(ताप)— 2Kcl+3o2 (पोटेशियम क्लोराइड )

(ii) Caco3 —(ताप)— Cao+co2 (कैल्सियम कार्बोनेट)

२.विधुत वियोजन :-

जैसे :- (i) 2Nacl —-(विधुत धारा)—-2Na+Cl2 (सोडियम क्लोराइड )

(ii) 2H2o —-(विधुत धारा)—- ()2H2+o2

3.प्रकाशीय वियोजन :-

जैसे :-(i) 2AgBr—–(प्रकाश)—–2Ag+Br(सिल्वर ब्रोमाइड )

(ii) 2HI—–(प्रकाश)—–H2I2

3. विस्थापन अभिक्रिया:-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे एक अधिक अभिक्रिया शील तत्व दुसरे कम क्रियासिल तत्व को अपने स्थान से विस्थापित कर देता है | विस्थापन अभिक्रिया कहलाती है |

जैसे :- (i) CUSO4+Zn  =   Znso4+CU

(ii) Feso4+Cu  =  Feso4+Cu

(स्पेशल नोट ):- सक्रियता श्रेणी

सक्रियता श्रेणी वह सूची है जिसमे धातुओ को उनकी अभिक्रिया शीलता के आधार पर अवरोही क्रम में व्यवस्थित किया जाता है |

जैसे :- K,NA,CA,MG,AL,ZN,FE,PB,CU,AG,AU                        A+D,c+B

(जल में आग पकड़ते है )



4. दिविस्थापन अभिक्रिया:-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे अभिकारको के मध्य आयनों का आदान-प्रदान होता है तथा नये योगिक बनते है | A+B,C+B

जैसे :-

(I) Na2So4+Bacl2  =  baso4+2Nacl

(सोडियम सल्फेट ) (बेरियम क्लोराइड )

(ii)Ag No3+Kcl =  Agcl+Kno3

(सिल्वर नाइट्रेट ) (पोटेशियम क्लोराइड )

5. ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया :-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे ऊष्मा उत्सर्जित होती है अर्थात् ऊष्मा उत्पन्न होती है | ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहलाती है |

जैसे :- (i) N2+3H2  =  2NH3+ऊष्मा

(ii) 2SO2+o2  =  2SO3+उष्मा

6. ऊष्माशोषी अभिक्रिया :-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे ऊष्मा का अवशोषण होता है | ऊष्माशोषी अभिक्रिया कहलाती है |

जैसे :-(i) N2+O2  =  2No-ऊष्मा

(ii)2HI  =  H2+I2-ऊष्मा

7. ऑक्सीकरण/उपचयन अभिक्रिया :-

ऐसी रासायनिक अभिक्रिया जिसमे ऑक्सीकरण की वर्दी हो

1.ऑक्सीकरण की वर्दी हो

जैसे :- (i) 2mg+o2  =  2mgo

(ii) co2  =  c+o2

2.हाइड्रोजन की कमी हो

जैसे :- (i) H2S = H2+S

(ii) 2HI = H2+I2



8. अपचयन अभिक्रिया :-

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे

1. हाइड्रोजन की वर्दी हो

जैसे :-

(i) H2+Cl2  =  2HCL (हैद्रोक्लोरिक अम्ल )

(ii) 2Na+H2  =  2NaH (सोडियम हाईड्राइड )

२. जिसमे ऑक्सीजन की कमी हो

जैसे :- (i) 2mgo  =  2mg+o2

(ii) 2zno  =  2zn+o2

9.रेड़ोक्स/अपोपचयन अभिक्रिया :- 

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे ओक्सिकरण व अपचयन दोनों साथ साथ चलते है | अर्थात् किसी एक तत्व का ओक्सिकरण होता है | तो दुसरो का अपचयन होता है |

जैसे :- (i) CUO + h2   =  Cu+ H2o

(ii) Zno+C  =  Zn+Co

10. अवक्षेपन अभिक्रिया :- 

वह रासायनिक अभिक्रिया जिसमे अविलेय उत्पाद प्राप्त होता है | अवक्षेपन अभिक्रिया कहलाती है |

जैसे :- Na2 so4 + BaCl2   =  2Nacl + BaSo4 (सोडियम सल्फेट ) (बेरियम क्लोराइड )


Science notes केअपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now