भोजन एवं मानव स्वास्थ्य


भोजन एवं मानव स्वास्थ्य

संतुलित भोजन – ऐसा भोजन जिसमे सभी पोषक तत्व उचित मात्रा में उपलब्ध हो | संतुलित भोजन कहलाता है |

भोजन एवं मानव स्वास्थ्य

भोजन एवं मानव स्वास्थ्य



भोजन में उपस्थित प्रमुख तत्व –

  1. कर्बोहाइड्रेट – गेंहू , बाजरा , चावल , गन्ना , आलू इत्यादि |
  2. वसा – तेल , घी , मक्खन , मूंगफली इत्यादि |
  3. प्रोटीन – अंडे का पीतक भाग , मशरूम , सोयाबीन , दाले इत्यादि |
  4. खनिज लवण – सोडियम ( Na ) , पोटेशियम (k) , कैल्सियम (ca) , आयरन (Fe) , फास्फोरस (P) , आयोडीन (I) इत्यादि |
  5. रुक्षाश ( आहरी रेशे ) – दलिया , गाजर , मुली इत्यादि |

कुपोषण – जब भोजन में कोई भी पोषक तत्व लम्बे समय तक अनुपलब्ध होता है तो उसे कुपोषण कहते है |

विटामिन की खोज हांपकिंस ने की |



विटामिन 

स्रोत 

कमी से रोग 

रोग के लक्षण 

विटामिन A ( रेतिनाल ) गाजर , हरी सब्जिया रतौंधी  रात में दिखाई कम देना |
विटामिन B( थायमिन ) बेरी-बेरी ह्रदय की धड़कन कम होना , तंत्रिका तंत्र व पेशियों का कमजोर होना |
विटामिन B(राइबोफ्लेविन ) राइबोफ्लेविनोसिस जीभ व त्वचा का फटना |
विटामिन B3 ( नियासिन ) पेलग्रा जीभ व त्वचा पर पपड़ी पड़ना |
विटामिन C ( एसकोर्बिक अम्ल ) खट्टे फल स्कर्वी मसुडो में खून आना |
विटामिन D ( कल्सिफेराल ) रिकेट्स ( सुखा रोग ) हड्डियाँ मुड जाती है |




प्रोटीन कुपोषण – यदि भोज्य पदार्थ में लम्बे समय तक प्रोटीन की कमी हो जाती है तो उसे प्रोटीन कुपोषण कहते है | प्रोटीन की कमी से निम्नलिखित रोग होते है |

  1. क्वाशिओरकोर –

लक्षण – पेट फूल जाता है |

भूख कम लगती है |

स्वभाव चिडचिडा हो जाता है |

त्वचा फटने लगती है |

2. मेरास्मस –

लक्षण – शरीर सुख कर दुर्बल हो जाता है |

आँखे अन्दर घुस जाती है |

खनिज कुपोषण – यदि भोज्य पदार्थ में लम्बे समय तक खनिज पदार्थ अनुपलब्ध हो तो उसे खनिज कुपोषण कहते है |



खनिज 

स्रोत 

कार्य 

सोडियम (NA) मांस, मछली,अंडे,दूध मांसपेसियो में संकुचन, तंत्रिका आवेग का संचरण |
पोटेशियम (K) सभी प्रमुख खाद्य पदार्थो में मांसपेसियो में संकुचन, तंत्रिका आवेग का संचरण |
कैल्शियम (CA) दूध व दूध से बने उत्पाद, अंडा हैड्डीयों व दांतों को मजबूती प्रदान करता है |
फास्फोरस (P) दूध, हरी सब्जी, बाजरा हड्डियों व दांतों को मजबूती प्रदान करता है |
आयरन (Fe) दूध, हरी सब्जी, बाजरा, अंडे रुधिर में हीमोग्लोबिन का निर्माण |

Q.1 पृथ्वी पर पाया जाने वाला एकमात्र एसा पदार्थ कौनसा है जो तीनो अवस्थाओ में पाया जाता है ?

उत्तर- जल ( H2O )

Q.2 पीने वाले जल में कोन कोनसे गुण अत्यंत आवश्यक है ?

उत्तर- पीने योग्य  जल में निम्नलिखित गुण होने चाहिए –

  1. हानि पहुचाने वाले शुक्ष्मजीव न हो |
  2. pH का मान संतुलित होना चाहिए |
  3. ऑक्सीजन उचित मात्रा में होने चाहिए |

Q.3 दूषित जल के क्या-क्या प्रभाव होते है ?

उत्तर – दूषित जल के निम्नलिखित प्रभाव है –

  1. दूषित जल में अनेक सूक्ष्म जीव होते है | जैसे-विषाणु , जीवाणु , प्रोटोजोआ , कृमी आदि होते है जिनके कारण हैजा , पेचिस जैसी बीमारियों आसानी से फैलती है |
  2. विषाणु के संक्रमण से नारू या बाला रोग की सम्भावना बढ़ जाती है |

Q.4 नारू रोग के रोगजनक का नाम लिखिए ?

उत्तर- ड्रेकनकुलस मेडीनेसिस |

रक्तदाब – रक्त द्वारा वाहिनियो की दीवारों पर लगाया गया दाब रक्त दाब कहलाता है |

एक स्वास्थ्य मनुष्य का रक्त दाब =  120180 mm of Hg

B.P. =S.P. ( अनुशिथिलन दाब ) = 120 mm of Hg

D.P. = प्रकुंचन दाब = 80

रक्त दाब मापने का उपकरण — रक्त मापी ( स्फिग्मैनोमीटर )

निम्नरक्त चाप –  वह दाब जिससे धमनियो और शिराओ में रक्त का प्रवाह कम हो जात है निम्नरक्त चाप कहलाता है | निम्न रक्त चाप के कारण शरीर के महत्वपूर्ण अंगो जैसे – मस्तिष्क , ह्रदय और यकृत जैसे अंगो में ऑक्सीजन व भोज्य पदार्थ नहीं पहुच पाते है जिससे अंग सामान्य रूप से काम करना बंद कर देते है |

उच्च रक्तचाप – वह दाब जिसके कारण शिराओ और धमनियों में रक्त का प्रवाह अधिक हो जाता है उच्च रक्तचाप कहलाता है | उच्च रक्त चाप कई कारणों जैसे – क्रोध , ईष्या , भ्रम , तनाव से होता है |

उच्च रक्त चाप से पीड़ित व्यक्तियों को पोटेशियम युक्त भोजन करना चाहिए | तथा रेशे युक्त पदार्थ खूब खाने चाहिए और नियमित व्यायाम करना चाहिए |

Q. 5 तम्बाकू किस पादप की पत्तियों से प्राप्त किया जाता है ?

उत्तर- निकोटिना टोबेक्कम |

Q. 6 तम्बाकू किस कुल का पादप है ?

उत्तर- सोलोनेसी |

Q.7 तम्बाकू में कौनसा एल्केलॉइड पाया जाता है ?

उत्तर- निकोटिना

Q.8 सबम्युकस फाइब्रोसिस रोग का कारण और लक्षण लिखिए ?

उत्तर – सबम्युकस फाइब्रोसिस रोग गुटका खाने से होता है |

लक्षण – जबड़े की मॉसपेशियाँ कठोर हो जाती है |

जबड़ा आसानी से नहीं खुल पाता |

Q.9 तम्बाकू के उपयोग से होने वाली हानियों का वर्णन करो ?

उत्तर – तम्बाकू से उपयोग से निम्नलिखित हानिया होती है –

  1. तम्बाकू के लगातार उपयोग से मुह , जीभ , गले व फेफड़ो में कैंसर हो जाता है |
  2. तम्बाकू में उपस्थित निकोटिन धमनियों की दीवारों को मोटा कर देती है जिससे रक्त दाब अधिक हो जाता है |
  3. सिगरेट के धुएं में उपस्थित कार्बन मोनोऑक्साइड रक्त के साथ घुलकर ऑक्सीजन के परिवहन की क्षमता को घटा देती है |

Q. 10 मदिरा सेवन से मानव स्वास्थय पर होने वाले हानिकारक प्रभाव का वर्णन करो ?

उत्तर –

  1. एल्कोहाॅल के निरंतर प्रयोग से शरीर का सामंजस्य एवम् नियंत्रण कमजोर हो जाता है | जिससे कार्य क्षमता कमजोर हो जाती है |
  2.  एल्कोहाॅल के प्रयोग से तंत्रिका तंत्र पर भहुत प्रभाव पड़ता है |
  3. एल्कोहाॅल के प्रयोग से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है |
  4. एल्कोहाॅल के निरंतर प्रयोग से व्यक्ति की सामाजिक प्रतिष्ठा में कमी आ जाती है |

Q.11 अफीम किस पादप से प्राप्त किया जाता है ?

उत्तर – पैपेवर सोमनीफेरम |

Q.12 अफीम में कौन-कौनसे एलकेलॉइड पाय जाता है ?

उत्तर – मोर्फिन , कोडीन , पैपवरीन , सोमनीफैरीन आदि |

Q.13 कोल्डड्रिंक के निर्माण के समय उसमे कोनसा अम्ल मिलाया जाता है ?

उत्तर – फास्फोरिक अम्ल |



अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमे फेसबुक(Facebook) पर ज्वाइन करे Click Now